वीरेंद्र पासवान और माखन लाल बिंद्रू की हत्या - श्रीनगर, कश्मीर

 आज मंगलवार 5 अक्टूबर 2021 को कश्मीर, भारत में जिन तीन लोगों की हत्या हुई उनमें स्ट्रीट वेंडर वीरेंद्र पासवान और टैक्सी स्टैंड के अध्यक्ष एमएस लोन और माखन लाल बिंद्रू शामिल है। ये तीन लोग आज जिहादियों के द्वारा मार दिए गए क्युकी वे काफिर थे। काफिर अर्थात जो मुस्लिम धर्म का न हो। अब अगर ज़िंदा रहना है तो धर्म बदल लीजिये या गोली खाइये। वैसे जीवित रहने का एक रास्ता और है। आप अपने धर्म की रक्षा करे और धर्म आपकी रक्षा करेगा। खैर छोडो आप मुझे आरएसएस या बीजेपी का बोल देंगे। आगे बढ़ते है।  

कश्मीरी पंडित हिन्दू माखन लाल बिंद्रू की हत्या -

इकबाल पार्क में बिंद्रू मेडिकेट के मालिक माखन लाल बिंद्रू की आतंकियों ने गोलीमारकर हत्या कर दी. उन्हें अस्पताल ले जाया गया, जहां उन्होंने दम तोड़ दिया. 68 साल के कश्मीरी पंडित माखन लाल बिंद्रू की आतंकियों ने बेरहमी से हत्या कर दी. इस घटना के एक दिन बाद अब उनकी बेटी श्रद्धा बिंद्रू ने आतंकियों को ललकारा है औऱ कहा कि अगर हिम्मत है तो उनके सामने आकर उनसे बात करें.

धर्म निरपेक्ष भारत में बेटी श्रद्धा के लिए न तो किसी ने मोमबत्ती वाली मुहीम चलायी। न लोगो ने सोशल मीडिया पर प्रोफाइल पिक्चर बदली। किसी भी बॉलीवुड एक्टर को भारत में डर नहीं लगा और न ही उनको शर्म आयी अर्थात "I am ashamed" वाले पोस्टर दिखाए। जैसा की हमेशा किसी अन्य धर्म के साथ अगर ये सब होता तो वे करते आते है। 

और तो और घुँघरू सेठ, पप्पू  या गिरगिट टाइप के नेता की तो छोडो किसी राष्ट्रवादी नेता ने भी श्रध्दा के परिवार को एक करोड़ रुपये मदद नहीं दी। 



बिहार निवासी वीरेंद्र पासवान हिन्दू दलित की हत्या - 

भागलपुर का रहने वाला वीरेंद्र पासवान अक्सर गर्मियों के दौरान कश्मीर में रोजी रोटी कमाने आता था। वह श्रीनगर के मदीनसाहब, लालबाजार इलाके में ठेले पर गोल गप्पे बेचता था। यही श्रीनगर के मदीन साहिब में एक रेहड़ीवाले को आतंकियों ने गोलियों से भून डाला। अस्पताल ले जाने से पहले ही अपने ठेले के पास सड़क पर ही दम तोड़ गया . उसकी हत्या की जिम्मेदारी इस्लामिक स्टेट आफ जम्मू कश्मीर (इस्लामिक स्टेट विलाया हिंद) ने ली है।

प्रशासन ने दिवंगत वीरेंद्र पासवान की पत्नी पुतुल देवी को मदद के लिए सवा लाख रुपये की अनुग्रह राशि प्रदान की है। सवा की राशि देते हुए प्रशासन उतना ही गर्व हुआ जितना की कोई सवा रुपये दान पेटी में डाल कर करता है। 

makhanlal and virendra paswan killed srinagar
Image source - LiveHindustan News

लेकिन राहत की बात यह है की रोहित वेमुला की तरह यहाँ दलित हत्या का मुद्दा नहीं उठेगा। गरीब पत्नी को सवा लाख मिलने पर भीम आर्मी के नौजवान बहुत खुश है। वो मीम को धन्यवाद बोल रहे है। दलितों के एक भी नेता शायद उनके घर जाए। क्युकी वीरेंद्र पासवान की हत्या किसी हिन्दू ने नहीं की. ये भी बहुत मुश्किल है की शायद ही कोई पत्रकार उनके घर जाए और पूछे - "आप कौन जात हो" . 

इन हत्याओं पर कश्मीर के तथाकथित नेताओ ने ट्विटर के माध्यम से सवेंदना व्यक्त की है। लेकिन किसी एक ने भी आतंकियों को भला बुरा नहीं कहा। 

ये वही नेता है जो कभी केंद्र सरकार में सहयोगी बनकर देश चलाते थे। अगर आप अभी भी इन नेताओ या इनके सहयोगी पार्टीयो को वोट दे रहे है तो हिन्दुओ की चिता में लगने वाली एक लकड़ी आपकी भी है। 

और इस प्रकृति में आप जैसा व्यवहार दुसरो के साथ करते है वही आपके साथ भी होगा। वेद पुराण डिजिटल माध्यम पर उपलब्ध है अपने धर्म को जाने, समझे और उसकी रक्षा करे। इस बात की गारंटी है की आपके कुल की रक्षा आपका धर्म करेगा। ये में नहीं कह रहा वेदो और भगवत गीता में लिखा है। 

सोर्स / Courtesy  -

काफी मीडिया सोर्स को देखने के बाद में नवभारत को धन्यवाद देता हु जिन्होंने खबर के साथ साथ मानवाधिकारों के ठेकेदारों से प्रश्न पूछने की हिम्म्मत की। 

घाटी में कश्मीरी पंडित और बिहारी दलित की हत्या पर दिल कचोटने वाली चुप्पी, मानवाधिकार के पैरोकारों को क्या सांप सूंघ गया? - https://bit.ly/3Ak9HhS

नोट - यह कोई खबर नहीं बल्कि खबरों को पढ़कर उत्पन्न हुयी सोच या प्रतिक्रिया है। अगर आपको किसी भी शब्द से ठेस लगी है तो कमेंट के द्वारा बताये, हटा लूंगा। क्युकी काफिर हु इसलिए डरपोक हु।  

Post a Comment

0 Comments